shiv shayari , best bhole baba shayari 2020

स्वागत है आपका hindi messages में आज आपको इस वेबसाइट में हम shiv shayari देने जा रहें हैं । bhole baba आपकी हर मनोकामना पूर्ण करें । आपका दिन मंगलमय हो । shiv shayari पढ़िये और भोलेनाथ की भक्ति में रंग जाइये । bhole baba shayari को अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करियेगा । ताकि हम आपके लिए और भी ऐसे ही bhole baba shayari लेकर आते रहे ।

ज्यादा आपका टाइम खरब नही करते चलिए पढ़ते है shiv shayari

shiv shayari

Bhole baba shayari

|| मुझमें कोई छल नहीं, तेरा कोई कल नहीं
मौत के ही गर्भ में, ज़िंदगी के पास हूँ
अंधकार का आकार हूँ, प्रकाश का मैं प्रकार हूँ
मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ ||

|| सारा जगत है प्रभु तेरी शरण में
सर झुकाते हैं शिव तेरे चरण में
हम बनें भोले की चरणों की धूल
आओ शिव जी पर चढ़ायें श्रद्धा के फूल ||

|| निराश नहीं करते बस एक बार सचे मन से भोले शंकर से फ़रियाद करो !!
जय भोले जय भंडारी तेरी है महिमा न्यारी ||

|| मर-मर के तू लाख जन्म ले ले,
हाथ में तेरे राख भी ना आयेगा!
आरंभ तेरा तुझसे है,
अंत में तू महाकाल के पास जायेगा ||

|| शिवरात्रि कुछ इस तरह से,फिर देखना शिव प्रसन्न होते शुभ भावों के सजा लेना फूल, तोड़ फेंकना नफरत के शूल। ॐ नम: शिवाय महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें ||

shiv shayari

|| हर ओर सत्यम-शिवम-सुन्दरम,
हर हृदय में हर-हर हैं,
जड़ चेतन में अभिव्यक्त सतत
कंकर-कंकर में शंकर हैं.
हैप्पी शिवरात्रि ||

|| सारा जहाँ है जिसकी शरण में
नमन है उस शिव जी के चरण में
बने उस शिवजी के चरणों की धुल
आओ मिल कर चढ़ाये हम श्रद्धा के फूल ||

|| शिव की शक्ति, शिव की भक्ति, ख़ुशी की बहार मिले,
शिवरात्रि के पावन अवसर पर आपको ज़िन्दगी की एक नई अच्छी शुरुवात मिले ||

|| जिंदगी जीना आसान नहीं होता,
बिना कर्मों के कोई महान नहीं होता!
जब तक न पड़े हथौड़े की चोट,
पत्थर भी भगवान नहीं होता ||

|| मेरे जिस्म जान में ‪‎भोलेनाथ‬ नाम तुम्हारा है
आज अगर मैं खुश हूँ तो यह एहसान भी तुम्हारा है
थामा हुआ है हाथ मेरा आपने मुझको मालूम है
मेरे हर पल हर लम्हे में मेरे भोलेनाथ प्यार तुम्हारा है ||

|| बाबा महाकाल के भक्त हैं, हर हाल में मस्त हैं
जिंदगी एक धुँआ हैं, इसलिए हम चिलम मैं मस्त हैं ||

|| कैसे कह दूँ कि मेरी, हर दुआ बेअसर हो गई,
मैं जब-जब रोया तब-तब महादेव को खबर हो गई ||

|| शिव ही सत्य है यही अन्त
शिव ही अनादि है ये ही भागवत
शिव ही ब्रह्मा यही ओंकार
शिव ही भक्ति शिव ही शक्ति
सब मिलके नमन करे शिव को
उनका आशीष सदा हम पर रहे
हैप्पी शिवरात्रि ||

|| ना पूछो मुझसे मेरी पहचान, मैं तो भस्मधारी हूँ,
भस्म से होता जिनका श्रृंगार, मैं उस भोलेनाथ का पुजारी हूँ ||

|| शिव की ज्योति से नूर मिलता है,
सबके दिलों को सुरूर मिलता है;
जो भी जाता है भोले के द्वार,
कुछ न कुछ ज़रूर मिलता है ||

|| संसार का हर कण शिवमय हों
सभी जगह शक्ति का अवतार जागे
धरती, समुद्र और आसमा से फिर
भोलेनाथ की जय जयकार उठे ||

कैसे लगे आपको हमारे यह shiv shayari अच्छे लगे न ।
हमारे पास और भी शायरी है भोलेनाथ की ।
मेरे भोलेनाथ के बारे में मैन और भी शायरियाँ लिखी है ।
नीचे क्लिक कर के आप bhole baba shayari पढ़ सकते हो । और shiv shayari को शेयर करना न भूलियेगा मित्रो ।

bholenath shayari in hindi

mahashivratri shayari

Ask me anything